26 Apr, 2019

25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस की थीम “ जीरो मलेरिया स्टार्ट्स विथ मी”

हर साल 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस एक विशेष विषय पर केंद्रित होता है। इस साल 2019 में विश्व मलेरिया दिवस की थीम है-“ जीरो मलेरिया स्टार्ट्स विथ मी”। जिसका तात्पर्य है स्वयं को मलेरिया से मुक्त रखने की शुरुआत। इसका मतलब है कि मलेरिया को खत्म करने के लिए सभी व्यक्तियों को अपने स्तर पर प्रयास करने चाहिए और इसकी शुरुआत वो अपने से करें। यानी पहले अपने आसपास इस बीमारी के खतरे को कम करके आगे बढ़े।
WMD डब्ल्यूएचओ द्वारा वर्तमान में चिह्नित आठ आधिकारिक वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियानों में से एक है। इसकी स्थापना मई 2007 में विश्व स्वास्थ्य सभा के 60 वें सत्र द्वारा की गई थी। WMD की स्थापना से पहले, अफ्रीका मलेरिया दिवस 25 अप्रैल को आयोजित किया गया था।

The Hindu

एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2019 में भारत चौथे स्थान पर

हाल ही में कतर की राजधानी दोहा में हुए एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2019 में भारत चौथे स्थान पर रहा है। यह चैंपियनशिप का 23 वां संस्करण था। जिसमें भारत ने 3 स्वर्ण, 7 रजत और 7 कांस्य के साथ पदक तालिका में चौथे स्थान पर रहा। वही बहरीन ने 11 स्वर्ण, 7 रजत और 4 कांस्य पदकों के साथ तालिका में शीर्ष स्थान हासिल किया है। चीन दूसरे स्थान पर था जबकि जापान तीसरे स्थान पर था।

The Hindu

एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2019 में भारत ने तीन स्वर्ण पदक जीते

कतर की राजधानी दोहा में एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2019 का आयोजन किया गया। इन खेलों में भारत को चौथा स्थान मिला है।
इन खेलों में भारत ने तीन स्वर्ण पदक जीते है, जिनमे तेजिंदर पाल सिंह तोर (शॉट पुट), गोमती मारीमुथु (800 मीटर) और पी. यू. चित्रा (1500 मीटर) ने भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता। 
भारत ने 2017 में भुवनेश्वर के पिछले संस्करण में 29 पदक - 12 स्वर्ण, 5 रजत और 12 कांस्य जीते थे और पहली बार पदक तालिका में शीर्ष पर रहा।

The Hindu

मलेरिया के पहले टीके को पहली मलेरिया वैक्सीन के रूप में लॉन्च किया

हाल ही में अफ्रीकी देश मलावी में 2 वर्ष से छोटे बच्चों के लिये मलेरिया के पहले टीके को एक पायलट प्रोजेक्ट के तहत दुनिया की पहली मलेरिया वैक्सीन के रूप में लॉन्च किया है।
इस टीके का नाम RTS,S रखा गया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इसे लगाने के बाद मलेरिया नियंत्रण में सफलता मिलेगी। RTS,S/AS01 (ट्रेड नाम-Mosquirix) एक इंजेक्शन वैक्सीन है जो अफ्रीका में सबसे अधिक प्रचलित मलेरिया, पी.फाल्सीपेरम को लक्षित करेगा। यह टीका पाँच महीने से दो साल तक के बच्चों के लिये होगा। मलेरिया का टीका लगाने की शुरुआत घाना और केन्या में भी की जाएगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मलावी सरकार के इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का स्वागत किया है।
गौरतलब है कि वैक्सीन को GSK द्वारा विकसित किया गया है। कंपनी शुरुआती परियोजना हेतु उत्पाद की लगभग 10 मिलियन खुराक दान कर रही है।
इस टीके को 1987 में GSK ने बनाया था जिसे बाद में बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की सहायता से विकसित किया गया।

The Hindu

NASA ने पहली बार मंगल पर संभवत: 'भूकंप'दर्ज किया

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) द्वारा प्रक्षेपित रोबोटिक लैंडर 'इनसाइट' (NASA InSight) ने पहली बार मंगल पर संभवत: 'भूकंप'दर्ज किया है। 
लैंडर के भूकंपमापी यंत्र 'साइस्मिक एक्सपेरिमेंट फॉर इंटीरियर स्ट्रक्चर' (एसईआईएस) ने छह अप्रैल को कमजोर भूकंपीय संकेतों का पता लगाया। ‘इनसाइट' का छह अप्रैल को मंगल पर 128वां दिन था।
नासा ने एक बयान में कहा कि संभवत: ग्रह के भीतर से भूकंपीय संकेत मिले हैं और ऐसा पहली बार हुआ है। इससे पहले सतह के ऊपर के वायु जैसे कारकों के कारण भूकंपीय संकेत मिलते थे। संकेत के सटीक कारण का पता लगाने के लिए वैज्ञानिक अब भी डेटा की जांच कर रहे हैं।

The Hindu

ब्रिटेन ने सबसे लंबे समय तक विद्युत उत्पादन करने का रिकॉर्ड बनाया

ब्रिटेन ने कोयले से बिजली उत्पन्न किये बिना लगातार सबसे लंबे समय तक विद्युत उत्पादन करने का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया। ब्रिटेन के नेशनल ग्रिड के अनुसार, यह कोयला-मुक्त अवधि समाप्त होने से पहले 90 घंटे 45 मिनट तक चली। इस प्रकार विद्युत आपूर्ति करने की यह औद्योगिक क्रांति के बाद की सबसे लंबी अवधि है और इसने अप्रैल 2018 के 76 घंटे 10 मिनट के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ दिया। ग्रीनहाउस गैसों में कटौती करने के लिये 2025 तक ब्रिटेन के कोयला बिजली संयंत्रों को चरणबद्ध तरीके से बंद करने की सरकार की योजना है।

The Hindu

इंडोनेशिया में तेज़ी से विकसित होने वाली दो नई पक्षी प्रजातियों की पहचान की

हाल ही में इंडोनेशिया के एक द्वीप पर तेज़ी से विकसित होने वाली दो नई पक्षी प्रजातियों की पहचान की गई है। इन प्रजातियों में से एक वकाटोबी व्हाइट-आई (Wakatobi White-eye) है, जिसे पहले ज़ोस्टरॉप्स (Zosterops) व्हाइट-आई की उप-प्रजाति माना जाता था, लेकिन यह अपने आप में एक अलग प्रजाति है। इनमे दूसरा पक्षी वांगी-वांगी व्हाइट-आई (Wangi-wangi White-eye) है, जो अब तक पक्षी-विज्ञान के लिये अज्ञात था। इन दो नए पक्षियों की खोज प्रो. निकोला मैरियल्स के नेतृत्व में एक टीम द्वारा की गई। इनमें से वांगी-वांगी व्हाइट-आई केवल वांगी-वांगी द्वीप पर पाई जाती है, जबकि वकाटोबी व्हाइट-आई पूरे वकाटोबी द्वीप समूह में पाई जाती है।

The Hindu

6 गुना तेज़ी से पिघल रही हैं ग्रीनलैंड और अंटार्कटिका की बर्फ

हाल ही में ग्रीनलैंड और अंटार्कटिका की बर्फ की परतें पिघल रही है। यह परते पहले की तुलना में 6 गुना और तेज़ी से पिघल रही हैं । जिसके कारण अरबों टन पानी विश्व के महासागरों में जाकर मिल रहा है। शोधकर्त्ताओं के अनुसार इसकी वज़ह से अगले कुछ ही दशकों में क्षेत्रीय जलवायु अस्थिर होने के साथ ही मौसम में बहुत तेज़ी से बदलाव आने की आशंका है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि बर्फ की इन विशाल परतों के पिघलने और खासतौर से ग्रीनलैंड के ऊँचाई वाले हिस्सों की बर्फ के पिघलने से महासागरों का प्रवाह कमज़ोर पड़ेगा जो कि ठंडे पानी को अटलांटिक महासागर के साथ ही दक्षिण की ओर प्रवाहित करता है। इसके साथ ही यह उष्णकटिबंधीय पानी को सतह के करीब उत्तर की ओर प्रवाहित करता है। अटलांटिक मेरिडियोनल ओवरटर्निंग सर्कुलेशन नामक यह तरल कन्वेयर बेल्ट पृथ्वी के जलवायु तंत्र में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करती है और यह सुनिश्चित करती है कि उत्तरी गोलार्द्ध में कुछ गर्माहट बनी रहे।

The Hindu

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग रूस की यात्रा पर

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ पहली शिखर वार्ता में शामिल होने के लिए रूस की यात्रा पर है। उत्तर कोरिया की आधिकारिक केसीएनए संवाद समिति ने कहा कि किम पुतिन के 'आमंत्रण पर रूस की यात्रा पर है।
दोनों राष्ट्रों के मध्य होने वाला यह शिखर सम्मेलन आठ साल बाद होगा। आठ साल पहले किम जोंग द्वितीय ने रूसी प्रमुख दिमित्री मेदवेदेव से मुलाकात हुई थी। गौरतलब है कि किम की अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प से वियतनाम की राजधानी हनोई में दो महीने पहले मुलाकात हुई थी, लेकिन यह बैठक बेनतीजा रही थी। ट्रम्प उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों पर कोई समझौता किए बिना ही अमेरिका लौट गए थे।

The Hindu

प्रधानमंत्री जन धन योजना के खातों में तीन अप्रैल तक 97,665.66 करोड़ रुपये जमा

प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत खोले गए खातों में जमा रकम जल्द एक लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर जाएगी। सरकारी आंकड़ों के ज्ञात जानकारी के अनुसार जन धन खातों में तीन अप्रैल तक 97,665.66 करोड़ रुपये जमा किए जा चुके थे।
इस योजना की शुरुआत 28 अगस्त, 2014 को लांच किया गया था। इसका मकसद देशभर के सभी परिवारों में कम से कम एक बैंक खाता सुनिश्चित करना था। नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक इसके खाताधारकों की संख्या 35.39 करोड़ को पार कर गई है। इनमें से 27.89 करोड़ से ज्यादा खाताधारकों को रूपे डेबिट कार्ड भी जारी किया जा चुका है। इसकी सफलता को देखते हुए ही सरकार ने इन खातों के तहत दुर्घटना बीमा की राशि एक लाख रुपये से बढ़ाकर दो लाख रुपये कर दी थी।

The Hindu