24 Jun, 2019

न्यायमूर्ति वी. राम सुब्रमण्यन ने हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ ग्रहण की

न्यायमूर्ति वी. राम सुब्रमण्यन ने शनिवार को हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ ली। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने राजभवन में उन्हें एक सादे और गरिमामय शपथ समारोह में शपथ दिलवाई। मुख्य सचिव बी.के. अग्रवाल ने शपथ ग्रहण कार्यक्रम का संचालन किया और भारत के राष्ट्रपति द्वारा जारी नियुक्त आदेश पढ़ा। इससे पहले 31 जुलाई, 2006 को उन्हें मद्रास उच्च न्यायालय का अतिरिक्त न्यायाधीश नियुक्त किया गया था और बाद में नौ नवंबर, 2009 को स्थायी न्यायाधीश बनाया गया। उन्हें 27 अप्रैल, 2016 को आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय स्थानांतरित किया गया था। वह एक जनवरी, 2019 को तेलंगाना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनाए गए। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर एवं पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

The Hindu

लोकसभा में तीन तलाक बिल पेश किया

मुस्लिम समाज (Muslim Society) में एक बार में तीन तलाक (Teen Talaq) यानी कि तलाक-ए-बिद्दत की प्रथा पर रोक लगाने के मकसद से जुड़ा नया विधेयक सरकार शुक्रवार को लोकसभा (Lok Sabha) में हंगामे के बीच बिल पेश हुआ. तीन तलाक बिल को केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पेश किया. लोकसभा से जुड़ी कार्यवाही सूची के मुताबिक ‘मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2019' लोकसभा में पेश किया. पिछले महीने 16 वीं लोकसभा का कार्यकाल पूरा होने के बाद पिछला विधेयक निष्प्रभावी हो गया था क्योंकि यह राज्यसभा में लंबित था। दरअसल, लोकसभा में किसी विधेयक के पारित हो जाने और राज्यसभा में उसके लंबित रहने की स्थिति में निचले सदन (लोकसभा) के भंग होने पर वह विधेयक निष्प्रभावी हो जाता है।
ट्रिपल तलाक के लिए आरोपी पुरुष को तीन साल कारावास की सजा दी जा सकती है। इसका दुरूपयोग रोकने के लिए जमानत की व्यवस्था भी है। ट्रिपल तलाक का मामला तभी संज्ञान लेने योग्य होगा जब पीड़ित अथवा उसके सगे-सम्बन्धियों द्वारा FIR दर्ज करवाई जायेगी। ऐसे मामले में केवल पीड़ित के आग्रह पर ही समझौता किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त पीड़ित अपने अल्पव्यस्क बच्चों की कस्टडी भी ले सकती है और इसके लिए उसे गुज़ारा भत्ता भी देय होगा।

The Hindu

बालाकोट एयरस्ट्राइक को “ऑपरेशन बन्दर” कोडनेम दिया

भारतीय वायु सेना ने फरवरी में पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर हमला किया था। इस ऑपरेशन की गोपनीयता बनाए रखने के लिए इसे एक कोडनेम दिया गया था। यह कोडनेम था 'ऑपरेशन बंदर'। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर एयर स्ट्राइक की थी। भारतीय वायु सेना के जाबांज पायलटों ने बालाकोट में जब जैश-ए-मुहम्मद के आतंकी शिविरों को तबाह किया था, तब पाकिस्तान को कानों-कान खबर तक नहीं लगी थी। पाकिस्तान ही नहीं, इस योजना की किसी को भनक तक नहीं लगे इसका भी वायुसेना ने बहुत ख्याल रखा था।
वायु सेना ने 12 मिराज-2000 फाइटर जेट को इस हमले को अंजाम देने के लिए भेजा था। दरअसल, 14 फरवरी को पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए आतंकी हमले के जवाब में इस स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था। पुलावामा हमले में 40 जवान शहीद हुए थे। वायुसेना के सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि ऑपरेशन की प्लानिंग को सीक्रेट रखने के लिए यह कोडनेम तय किया गया था। दरअसल, वायु सेना की इस स्ट्राइक को रामायण से जोड़ा गया। जिस तरह राम की सेना के सेनापति हनुमान ने चुपचाप लंका में दाखिल होकर उसे तहस-नहस कर दिया था। वैसे ही बालाकोट में आतंकी ठिकानों का हाल किया गया।

The Hindu

योग को बढ़ावा देने के लिए चार को 25 लाख रुपये का पुरस्कार

पूरी दुनिया और देश में योग को बढ़ाने में महती भूमिका निभाने के लिए सरकार ने चार संस्थाओं एवं व्यक्तियों को 25-25 लाख रुपये का प्रधानमंत्री पुरस्कार देने की घोषणा की है। केन्द्रीय आयुष राज्य मंत्री श्रीपद येसो नाइक ने यहां घोषणा की कि ‘व्यक्तिगत वर्ग’ में भारत में योग के प्रचार प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए गुजरात के स्वामी राजर्षि मुनि एवं ‘अंतरराष्ट्रीय स्तर’ पर योग को प्रतिष्ठित करने के लिए इटली की नागरिक एंटोइनेट्टा रोजी को इस वर्ष का प्रधानमंत्री योग पुरस्कार दिया जायेगा। आयुष मंत्रालय ने विभिन्न वर्गों में आए 79 नामांकनों में से यह चयन किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 जून 2016 को दूसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस उत्सव के मौके पर योग के विकास और प्रचार-प्रसार में योगदान देने के लिए इस पुरस्कार की घोषणा की थी। इसके विकास में योगदान देने के लिए गुजरात के स्वामी राजर्षि मुनि, इटली की एंटोनिएटा रोजी, जापान स्थित जापान योग निकेतन और बिहार के मुंगेर के बिहार स्कूल ऑफ योग को प्रधानमंत्री योग सम्मान देने की घोषणा की गई थी।

The Hindu

20 जून : विश्व शरणार्थी दिवस

प्रत्येक वर्ष 20 जून को संपूर्ण विश्व में 'विश्व शरणार्थी दिवस' मनाया जाता है। यह दिवस विश्व भर में शरणार्थियों की स्थिति के प्रति जागरूकता बढ़ाने हेतु मनाया जाता है। विश्व शरणार्थी दिवस 2019 का विषय (थीम) - ''रिफ्यूजियों से हमारा वैश्विक रिश्ता है।" संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNRA) को शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्च आयुक्त (UNHCR) के रूप में भी जाना जाता है, जो विभिन्न कार्यक्रमों की मेजबानी करता है और अपने अभियान के लिए विषय की घोषणा भी करता है।
अफ्रीकी देशों की एकता को अभिव्यक्त करने के लिए, 4 दिसंबर 2000 को संयुक्त राष्ट्र परिषद द्वारा 55/76 प्रस्ताव पारित किया गया था। शुरुआत:-दिसंबर 2000 में संयुक्त राष्ट्र ने अफ्रीका शरणार्थी दिवस यानी 20 जून को प्रतिवर्ष विश्व शरणार्थी दिवस मनाने का निर्णय लिया। वर्ष 2001 से प्रतिवर्ष संयुक्त राष्ट्र द्वारा 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस मनाया जा रहा है। इस दिन को मनाने का मुख्य कारण लोगों में जागरुकता फैलानी है कि कोई भी इंसान अमान्य नहीं होता फिर चाहे वह किसी भी देश का हो। एकता और समंवय की भावना रखते हुए हमें सभी को मान्यता देनी चाहिए। म्यांमार, लीबिया, सीरिया, अफगानिस्तान, मलेशिया, यूनान और अधिकांश अफ़्रीकी देशों से हर साल लाखों नागरिक दूसरे देशों में शरणार्थी के रूप में शरण लेते हैं। संयुक्त राष्ट्र की संस्था यू.एन.एच.सी.आर. (United Nations High Commissioner for Refugees) शरणार्थी लोगों की सहायता करती है।
न्यूयॉर्क, अमेरिका में संयुक्त राष्ट्र का मुख्यालय है।

The Hindu

कार्बन उत्सर्जन कम करने की योजना ’एक्सेसिबल क्लीन एनर्जी को अमेरिका ने रद्द किया

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सरकार ने कार्बन उत्सर्जन को सीमित करने और कम प्रदूषण फैलाने वाले ऊर्जा स्रोतों के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए लाई गई पूर्व राष्ट्रपति बाराक ओबामा की 'स्वच्छ ऊर्जा योजना' को रद्द कर दिया है। इनवायरमेंट प्रोटेक्शन एजेंसी के प्रमुख एंड्र्यू व्हीलर द्वारा बुधवार को घोषित 'एक्सेसिबल क्लीन एनर्जी' नामक नए निर्देशों में राज्यों को पॉवर प्लांट उत्सर्जन मानकों के लिए अपनी निजी योजनाएं विकसित करने का निर्देश दिया गया है, लेकिन इसमें प्रांतों के लिए कटौती के लक्ष्यों की बात नहीं की गई है। नए नियम के अनुसार, पॉवर प्लांट उत्सर्जन कम करने के लिए योजना विकसित करने के लिए राज्यों को तीन साल का समय दिया जाएगा और ईपीए को 12 महीनों में उन योजनाओं की समीक्षा करनी होगी, जिसके बाद उन्हें वह योजना को या तो मंजूर करना होगा या उसे खारिज करना होगा।

The Hindu

CCI ने लक्ष्मी निवास बैंक के विलय को दी हरी झंडी

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस की लक्ष्मी विलास बैंक के साथ प्रस्तावित विलय को मंजूरी दे दी है। इंडियाबुल्स ने अप्रैल 2019 में, लक्ष्मी विलास बैंक ने इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस के साथ विलय की घोषणा की थी। दोनों कंपनियों के विलय से बनने वाली संयुक्त इकाई में कर्मचारियों की संख्या 14,302 होगी और वित्‍त वर्ष 2018-19 के पहले नौ महीने की अवधि में उसका दिया गया कर्ज 1.23 लाख करोड़ रुपए होगा। इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस ने शेयर बाजार को दी जानकारी में बताया कि भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने 20 जून 2019 को हुई अपनी बैठक में विलय के प्रस्ताव पर विचार किया और उसे मंजूरी दे दी है।

The Hindu

कालेश्वरम सिंचाई परियोजना राष्ट्र को समर्पित

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने शुक्रवार को राज्य की बहुद्देश्यीय कालेश्वरम परियोजना का शुभारंभ किया। मेडीगड्डा पंपहाउस स्थित मोटर नंबर 6 को ऑन करके उन्होंने गोदावरी लिफ्ट इरिगेशन परियोजना का शुभारंभ किया। श्रंंगेरी पीठ के हरिशंकर शर्मा और गोपीकृष्ण शर्मा के नेतृत्व में 40 वेद पंडितों ने इस यज्ञ को पूरा कराया। राव दंपति ने गोदावरी माता की भी पूजा की। इसके बाद मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी और विशेष अतिथि के रूप में राज्यपाल नरसिम्हन की उपस्थिति में कालेश्वरम परियोजना को राष्ट्र का लोकार्पण किया गया। यह दुनिया की सबसे बड़ी मल्‍टी-स्‍टेज लिफ्ट सिंचाई परियोजना है। इस परियोजना के तहत गोदावरी नदी का पानी समुद्रतल से 100 मीटर लिफ्ट कर मेडिगड्डा बांध तक पहुंचाया जाएगा। यहां से पानी को 6 स्टेज तक लिफ्ट किया जाएगा और कोंडापोचम्मा सागर पहुंचाया जाएगा, जिसकी ऊंचाई 618 मीटर है। कालेश्‍वरम लिफ्ट सिंचाई प्रोजेक्‍ट में 139 एमडब्‍ल्‍यू अधिकतम क्षमता वाले पंप का उपयोग किया गया है जो विश्‍व में अभी तक कही भी इतनी क्षमता वाले पंप का उपयोग नहीं हुआ है। इस प्रोजक्‍ट के जरिए 45 लाख एकड़ भूमि एवं हजारों गांवों को पानी की जरूरत पूरी करेगी।

The Hindu

एएआई के मसलों का हल निकालने के लिये अभिनव बिंद्रा को नियुक्त किया

ओलंपिक में व्यक्तिगत स्पर्धा का स्वर्ण जीतने वाले इकलौते भारतीय अभिनव बिंद्रा को विश्व तीरंदाजी ने भारतीय तीरंदाजी संघ के मसलों का हल निकालने की जिम्मेदारी सौंपी है । विश्व तीरंदाजी ने चंडीगढ और नयी दिल्ली में दो समानांतर ईकाइयों के चुनाव के जरिये संविधान का उल्लंघन करने के लिये भारतीय तीरंदाजी संघ (AAI) को सूची से बाहर कर दिया था। बिंद्रा चयन समिति का हिस्सा होंगे जिसमें IOA महासचिव राजीव मेहता और खेल मंत्रालय का एक प्रतिनिधि भी होगा। ये एएआई के नये पदाधिकारियों द्वारा कार्यभार संभालने तक राष्ट्रीय टीमों का चयन करेंगे । डीलेन ने लुसाने में 24 से 26 जून तक आईओसी के 134वें सत्र से इतर बत्रा से मुलाकात का समय भी मांगा है । इससे पहले उच्चतम न्यायालय को समय सीमा देने के लिये बत्रा ने विश्व तीरंदाजी की निंदा की थी । विश्व तीरंदाजी ने कहा था कि यदि न्यायालय विवादित चुनाव पर जुलाई तक फैसला नहीं देता तो विश्व ईकाई भारत को निलंबित कर देगी।

The Hindu

21 जून : विश्व संगीत दिवस

जिस तरह 21 जून को विश्‍व योगा दिवस मानाया जाता है ठीक उसी प्रकार 21 जून को विश्व संगीत दिवस भी मनाया मनाया जाता है। इसको मनाने का उद्देश्य अलग-अलग तरीके से म्यूज़िक का प्रोपेगेंडा तैयार करने के अलावा एक्सपर्ट व नए कलाकारों को एक मंच पर लाना है। विशेष रूप से फ्रांस में कई सरे कार्यक्रम आयोजित किये जाते है. इस आयोजन को Fête de la Musique (या विश्व संगीत दिवस) के रूप में भी जाना जाता है और इसकी उत्पत्ति 1982 में फ्रांस में हुई थी. विश्व संगीत दिवस कुल 110 देशों में ही मनाया जाता है (जर्मनी, इटली, मिस्र, सीरिया, मोरक्को, ऑस्ट्रेलिया, वियतनाम, कांगो, कैमरून, मॉरीशस, फिजी, कोलम्बिया, चिली, नेपाल, और जापान आदि)। विश्व संगीत दिवस के अलावा इसे संगीत समारोह के रूप में भी जाना जाता है। विश्व संगीत दिवस का उद्देश्य लोगों को संगीत के प्रति जागरूक करना है ताकि लोगों का विश्वास संगीत से न उठे।

The Hindu