17 Apr, 2019

दुनिया के सबसे बड़े विमान ने पहली बार परीक्षण के लिए उड़ान भरी

दुनिया के सबसे बड़े विमान ने अमेरिका के कैलिफोर्निया में पहली बार परीक्षण के लिए उड़ान भरी। इस विमान में छह बोइंग 747 इंजन लगे हैं और यह इतना बड़ा है कि इसके पंखों का फैलाव एक फुटबॉल मैदान से भी ज्यादा है। विमान का निर्माण करने वाली कंपनी स्ट्रेटोलॉन्च ने बताया कि शनिवार को दोहरे डिजाइन वाले विमान ने शनिवार सुबह 6.58 बजे (स्थानीय समयानुसार) मोजेव एयर एंड स्पेस पोर्ट से सफलतापूर्वक उड़ान भरी। इस दौरान अधिकतम 189 मील (302.4 किलोमीटर) प्रति घंटे की गति को प्राप्त करते हुए विमान ने मोजेव रेगिस्तान में 17,000 फीट की ऊंचाई पर 2.5 घंटे तक उड़ान भरी।
सफल परीक्षण के बाद कंपनी के सीईओ जीन फ्लॉयड ने कहा, ‘पहली उड़ान कितनी शानदार रही। यह सफलता ग्राउंड लॉन्च सिस्टम का एक लचीला विकल्प प्रदान करने के हमारे मिशन को आगे बढ़ाएगी। हमें इसे बनाने वाली टीम, फ्लाइट दल और हमारे सहयोगियों पर बेहद गर्व है।’ इस बीच, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी विमान की सफल उड़ान को मील का पत्थर करार दिया। 
नासा के वैज्ञानिक थॉमस जुर्बुचेन ने कहा कि यह अंतरिक्ष के छोर तक और उससे भी परे जाने जैसा है। काश पॉल एलन यह देख पाते। गौरतलब है कि माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक दिवंगत पॉल एलन ने बड़े वाहक विमान को ऑर्बिटल क्लास रॉकेट के लिए उड़ान लॉन्च पैड के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से 2011 में स्ट्रेटोलॉन्च की स्थापना की थी।

The Hindu

भारत ने बॉक्सिंग विश्व कप में एक स्वर्ण और दो रजत पदक जीता

भारत ने जर्मनी के कोलोन में बॉक्सिंग विश्व कप में एक स्वर्ण और दो रजत पदक जीत लिए है। मीना कुमारी मैसनम (मणिपुर) ने 54 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक जीता। 2014 के एशियाई चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता ने फाइनल में थाईलैंड के मचाई बन्यानुत को हराया।
57 किलोग्राम वर्ग में साक्षी और 64 किलोग्राम में वर्ग में पविलाओ बासुमतरी को फाइनल में हार के बाद रजत पदक प्राप्त हुआ। भारत ने पिंकी रानी द्वारा 51 किग्रा वर्ग में और 60 किलोग्राम में परवीन के कांस्य पदक के साथ पांच पदकों के साथ टूर्नामेंट समाप्त किया जीता था।

The Hindu

जीयोसिंक्रोनस सेटेलाइट लांच व्हेकिल के चौथे चरण को जारी रखने की मंजूरी दी

केंद्र सरकार ने 15 अप्रैल 2019 को जीयोसिंक्रोनस सेटेलाइट लांच व्हेकिल (जीएसएलवी-Geosynchronous Satellite Launch Vehicle: GSLV) के चौथे चरण को जारी रखने की मंजूरी दी। चौथे चरण के अंतर्गत 2021-24 की अवधि के दौरान 5 जीएसएलवी उड़ानें शामिल है।
जीएसएलवी कार्यक्रम- चरण 4 से जियो-इमेजिंग, नेवीगेशन, डेटा रिले कॉम्‍यूनिकेशन और स्‍पेस साइंस के लिए दो टन वर्ग के उपग्रहों को लांच करने की क्षमता मिलेगी।

The Hindu

असम में मंगलवार को फसल का पर्व माघ बिहू पारंपरिक उत्साह व उल्लास के साथ मनाया

असम में मंगलवार को फसल का पर्व माघ बिहू पारंपरिक उत्साह व उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। नए असमिया कैलेंडर वर्ष की शुरुआत का प्रतीक असम का सबसे बहुप्रतीक्षित त्योहार - रोंगाली बिहू, जिसे 'बोहाग बिहू’ के नाम से भी जाना जाता है, असम प्रमुख कृषि कार्यक्रमों को बिहू के त्योहार के रूप में मनाता है।
असम में, एक वर्ष में तीन बिहू त्यौहार मनाए जाते हैं, जिसे रोंगाली बिहू या बोहाग बिहू, भुगली (माघ बिहू) और कंगाली (कटि बिहू) के रूप में मनाया जाता है, ताकि किसान पंचांग में विशिष्ट चरण को चिह्नित किया जा सके।
यह त्यौहार लगभग पंजाब में बैसाखी, बंगाल में पोइला बैसाख, तमिलनाडु में पुथंडु और केरल में विशु के समय मनाया जाता है।

The Hindu

CMFRI और ISRO ने तटीय क्षेत्रों में सुरक्षा के लिए समझौता किया

केंद्रीय समुद्री मत्स्य अनुसंधान संस्थान (CMFRI) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने तटीय क्षेत्रों में छोटे आर्द्रभूमि क्षेत्रों के मानचित्रण, सत्यापन और सुरक्षा के लिए समझौता किया है। कार्यक्रम तटीय आजीविका कार्यक्रमों के माध्यम से उन्हें बहाल करने के उद्देश्य से है।
एक मोबाइल ऐप और एक केंद्रीकृत वेब पोर्टल विकसित करने के लिए CMFRI और इसरो के अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे, जिसमें देश में 2.25 हेक्टेयर से छोटे आर्द्रभूमि क्षेत्रों का एक व्यापक डेटाबेस होगा।
केंद्रीय समुद्री मत्स्य अनुसंधान संस्थान की स्थापना 3 फरवरी 1947 को कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के तहत की गई थी और बाद में यह 1967 के ICAR में शामिल हो गया था।
इसरो के निदेशक: के. सिवान, 
मुख्यालय: बेंगलुरु, स्थापना: 1969

The Hindu

बिभू कल्याण नायक को अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ समिति के अध्यक्ष नियुक्त किया

विश्व शासी निकाय द्वारा बिभू कल्याण नायक अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ (FIH) स्वास्थ्य और सुरक्षा समिति के अध्यक्ष नियुक्त होने वाले पहले भारतीय बन गये है।
भुवनेश्वर के निवासी, नायक ने हवाना, क्यूबा और स्पेन के मैड्रिड में नेशनल स्पोर्ट्स सेंटर में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन से स्पोर्ट्स ट्रॉमेटोलॉजी और स्पोर्ट्स एंड एक्सरसाइज फिजियोलॉजी में बड़े पैमाने पर प्रशिक्षण लिया है। वह दो वर्ष का कार्यकाल पूरा करेंगे।

The Hindu

चीन ने जल, थल पर चलने वाली बोट बनाने का दावा किया

चीन ने दुनिया की पहली जल, थल पर चलने वाली बोट बनाने का दावा किया है।मरीन लिजार्ड' नामक दुनिया की पहली सशस्त्र उभयचर ड्रोन बोट और नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम द्वारा निर्देशित,चीन के BeiDou चीन द्वारा सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। इसमें हवाई ड्रोन और अन्य ड्रोन जहाजों के साथ मुकाबला करने की क्षमता है।
ड्रोन शिप चाइना शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री कॉरपोरेशन (CSIC) के तहत वुचांग शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री ग्रुप द्वारा निर्मित है। ड्रोन जहाज की अधिकतम संचालन सीमा 1,200 किमी है और इसे उपग्रहों की मदद से दूर से नियंत्रित किया जा सकता है।

The Hindu

वित्त वर्ष 2019 में बैंकों की 13.24% क्रेडिट वृद्धि

वित्तीय वर्ष 2019 बैंकों के लिए अपेक्षाकृत मजबूत रूप से समाप्त हुआ है। उन्होंने वित्त वर्ष 2018 में 9.85% के मुकाबले वर्ष दर वर्ष 13.23% की वृद्धि की है। भारतीय रिज़र्व बैंक के अनुसूचित बैंकों के भारत के स्टेटमेंट स्टेटस के अनुसार, वित्त वर्ष 2019 में वार्षिक आधार पर जमा वृद्धि 9.99% है, वित्त वर्ष 2018 में 6.15% से भी बेहतर है।

The Hindu

ISAC के पूर्व निदेशक, एस के शिवकुमार का निधन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन सैटेलाइट सेंटर (ISAC) के पूर्व निदेशक, एस के शिवकुमार का बेंगलुरु में 66 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। वह मैसूरु, कर्नाटक से थे। वह उस टीम का हिस्सा थे जिसने भारत के पहले चंद्र मिशन चंद्रयान-I के लिए टेलीमेट्री सिस्टम विकसित किया था।
उन्होंने भास्कर, इन्सैट, IRS-1B और IRS-1C जैसे कई अभियानों में योगदान दिया। उन्हें पद्मश्री पुरस्कार और कर्नाटक राज्योत्सव पुरस्कार (2008) से भी सम्मानित किया गया था।

The Hindu

भारत का पहला विदेशी पक्षी पार्क 'एस्सेल वर्ल्ड बर्ड पार्क' शुरू किया

भारत का पहला विदेशी पक्षी पार्क 'एस्सेल वर्ल्ड बर्ड पार्क' एस्सेल ग्रुप की मनोरंजन शाखा,एस्सेलवर्ल्ड लीजर प्राइवेट लिमिटेड द्वारा मुंबई में 6 बिलियन डॉलर में शुरू किया गया है।
पार्क 1.4 एकड़ भूमि में फैला हुआ है और वनस्पतियों और जीवों से घिरा हुआ है। यह उड़ने वाले, स्थलीय और जलीय पक्षियों की 60 से अधिक प्रजातियों के साथ 500 से अधिक विदेशी पक्षियों का घर है और यहाँ पक्षियों के लिए विशेष पौधों और पेड़ों की 200 प्रजातियां हैं।

The Hindu