10 Jun, 2019

चीन समुद्र से अंतरिक्ष में रॉकेट छोड़ने वाला पहला देश बना

चीन 5 जून को ऐसा पहला देश बन गया है। इससे पहले रूस और अमेरिका भी समुद्र में तैरते हुए प्लेटफार्म से पृथ्वी के कक्षा में उपग्रह लांच कर चुके हैं। जिसने एक तैरते हुए पोत से अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक रॉकेट लांच किया। इस कदम से बीजिंग ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया है। शानडोंग प्रांत में पीत सागर में एक चलित प्लेटफार्म से अपराह्न् 12.06 बजे एक 'ए लांग मार्च-11 सॉलिड प्रोपेलेंट कैरियर रॉकेट' ने उड़ान भरी। यह लांग मार्च कैरियर रॉकेट श्रंखला का 306वां अभियान है। चीन ने पृथ्वी की कक्षा में अन्तरिक्ष स्टेशन स्थापित करने का लक्ष्य भी रखा है। इसके अतिरिक्त चीन मंगल गृह के लिए भी खोजी मिशन भेजने का प्रयास कर रहा है।

The Hindu

जापान में निर्मला सीतारमण G-20 वित्त मंत्रियों की बैठक में भाग लेंगी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी-20 देशों के वित्त मंत्रियों तथा केंद्रीय बैंकों के गर्वनरों की जापान में होने वाली दो दिवसीय बैठक में शिरकत करेंगी. यह बैठक आठ जून से शुरू होगी. भारत ने रविवार को जी20 के सदस्य देशों से अपील की कि डिजिटल दुनिया की कंपनियों के लाभ पर कर लगाने की चुनौतियों का समाधान ढूंढने में इस सिद्धांत का इस्तेमाल होना चाहिए कि यदि ऐसी कंपनी किसी देश में 'महत्वपूर्ण आर्थिक उपस्थिति रखती है तो उसे वहां कमाए गए लाभ पर वहीं कर चुकाना चाहिए। जी-20 बैठक के मौके पर सीतारमण ने ब्रिटेन के वित्त मंत्री फिलिप हैमंड के साथ भी अलग से बैठक की। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास भी जापान के फुकुओका में बैठक में भाग लेंगे। सऊदी अरब नवंबर 2020 में G20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा।

The Hindu

Wipro के चेयरमैन अजीम प्रेमजी ने रिटायरमेंट का ऐलान किया

Wipro के चेयरमैन अजीम प्रेमजी ने गुरुवार को रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया. 73 साल के अजीम प्रेमजी 30 जुलाई को रिटायर हो जाएंगे. विप्रो ने गुरुवार को बयान जारी कर कहा कि अजीम प्रेमजी गैर-कार्यकारी निदेशक और संस्थापक चेयरमैन के रूप में निदेशक मंडल में बने रहेंगे. उन्‍होंने 53 सालों तक कंपनी की बागडोर संभाली है। 1960 के दशक से अजीम एच प्रेमजी विप्रो के शीर्ष पर रहे हैं। उन्होंने विप्रो एंटरप्राइजेज (पी) लिमिटेड के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में और विप्रो जीई हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक के रूप में और प्रमोटर समूह के अन्य संस्थानों में भी काम किया। फोर्ब्स की सूची में प्रेमजी का स्थान विश्व में 38वें स्थान पर है। उनकी कुल नेटवर्थ 510 करोड़ रुपये है। वित्त वर्ष 2018 में वो भारत में दूसरे नंबर पर अरबपति थे। पहले पायदान पर रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी हैं।

The Hindu

2020 का स्वच्छता सर्वेक्षण तिमाही लीग के आधार पर होगा

हाल ही में स्वच्छ सर्वेक्षण लीग 2020 को लांच किया गया, इसे केन्द्रीय आवास व शहरी मामले मंत्रालय ने जारी किया है। यह शहरों व कस्बों की स्वच्छता के आकलन के लिए त्रैमासिक मूल्यांकन होगा।  स्वच्छता सर्वेक्षण के पांचवें वार्षिक सर्वेक्षण का संचालन जनवरी-फरवरी, 2020 के दौरान किया जायेगा। एडीएम टीएस मर्तोलिया ने निकाय अध्यक्षों, ईओ व वार्ड सदस्यों को शत प्रतिशत स्वच्छता की शपथ दिलाई। उन्होंने शहर को स्वच्छ रखने तथा अन्य 100 व्यक्तियों को स्वच्छता की शपथ दिलाने की कसम ली।  यह भारत सरकार द्वारा आरंभ किया गया राष्ट्रीय स्तर का अभियान है जिसका उद्देश्य देश में गलियों, सड़कों तथा अधोसंरचना को साफ-सुथरा करना है। महात्मा गाँधी के जन्मदिवस 02 अक्टूबर 2014 को यह अभियान आरंभ किया गया। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने देश को गुलामी से मुक्त कराया, परन्तु ‘स्वच्छ भारत’ का उनका सपना पूरा नहीं हो सका था । अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर महात्मा गांधी जी ने राष्ट्र को एक नैतिक संदेश दिया था।

The Hindu

दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो समाचार के पूर्व संपादक लालडिंग्लियाना सायलो का आइज़ोल में निधन

दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो समाचार के पूर्व संपादक लालडिंग्लियाना सायलो का आइज़ोल में निधन हो गया। उनकी पहली पोस्टिंग अरुणाचल प्रदेश के तवांग में थी। और वह कोहिमा क्षेत्र में क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय में निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए। सायलो को वर्ष 1972 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी के रूप में शामिल किया गया था।

The Hindu

भारतीय वायुसेना इजरायल से 100 स्पाइस बम खरीदेगा

भारत ने इज़रायल के साथ एक बड़ा रक्षा सौदे पर हस्ताक्षर किया है। भारतीय वायु सेना ने इज़राइल  के साथ 100 से अधिक स्पाइस बम खरीदने का सौदा किया है। सौ से अधिक स्पाइस बम की खरीद की कीमत लगभग 300 करोड़ रुपये होगी। स्पाइस बम वही बम हैं जिसका इस्तेमाल भारतीय वायु सेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए किया था। इस करार के बाद अत्याधुनिक स्पाइस बमों की खेप इजराइल अगले तीन महीनों में भारत को सौंपेगा। इस डील के बाद भारतीय वायुसेना की ताकत और बढ़ जाएगी।
स्पाइस 2000 गाइडेड बम क्या है?
यह इज़राइल द्वारा विकसित, जीपीएस-निर्देशित गाइडेंस किट है, जिसमे हवा में टपके हुए अनप्लग किए गए बमों को सटीक निर्देशित बमों में परिवर्तित करने में सक्षम है। “स्पाइस – 2000” चतुर, सटीक प्रभाव और लागत प्रभावी है, यह इजरायली कंपनी राफेल एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम का एक उत्पाद है। इसने इजरायली वायु सेना F – 16  स्क्वाड्रनों में 2003 के दौरान प्रारंभिक परिचालन क्षमता हासिल की है।

The Hindu

जगन मोहन रेड्डी के मंत्रिमंडल में होंगे 5 उपमुख्यमंत्री

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए अपने 25 सदस्यीय मंत्रिमंडल में पांच उपमुख्यमंत्री नियुक्त करने का शुक्रवार को फैसला किया। नए मंत्रिपरिषद का गठन शनिवार को एक सार्वजनिक कार्यक्रम में किया जाएगा। अनुसूचित जाति व जनजाति से सभी पांच उप मुख्‍यमंत्री और 50 फीसद मंत्री अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ी जाति, अल्‍पसंख्‍यक और कापु समुदाय से होंगे। जगनमोहन रेड्डी द्वारा आयोजित पार्टी की बैठक के दौरान यह फैसला लिया गया जिसमें सभी 150 विधायक शामिल थे। 30 मई को वाइएसआरसीपी प्रमुख ने आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली थी। बता दें कि राज्य की 175 विधानसभा सीट में वाइएसआर कांग्रेस ने 151 सीटों पर शानदार जीत दर्ज की।

The Hindu

न्यायमूर्ति पटेल ने दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ ली

जस्टिस धीरूभाई नारनभाई पटेल ने शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट के नए चीफ जस्टिस के तौर पर पर शपथ ली। इससे पहले वह झारखंड हाई कोर्ट में एक्टिंग चीफ जस्टिस थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मुख्य सचिव विजय देव, पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक और नेता प्रतिपक्ष विजेंदर गुप्ता सहित अनेक अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे। वर्तमान मुख्य न्यायाधीश  राजेंद्र मेनन इसी महीने यानी जून में रिटायर्ड होंगे। सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर नियुक्ति के लिए उनके नाम की सिफारिश की थी। दिल्ली हाईकोर्ट में न्यायाधीशों के लिए 60 पद स्वीकृत हैं, लेकिन उनमें से 24 पद रिक्त हैं।

The Hindu

विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस : 7 जून

विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस हर साल 7 जून को मनाया जाता है। एक अनुमान के अनुसार उल्टे सीधे तरीके से खाने वाले खाद्य पदार्थों की वजह से पूरे देश में हर मिनट 44 लोग और प्रति साल 23 मिलियन से अधिक लोग दूषित भोजन खाने से बीमार पड़ रहे हैं। दूषित और जहरीला खाना खाने से हर साल लगभग 4700 लोग अपना जीवन खो देते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन जागरूकता बढ़ाने और खाद्य सुरक्षा में सुधार की कार्रवाई को बढ़ावा देने के लिए इस दिवस को मनाये जाने की शुरुआत की है। संयुक्त राष्ट्र के कई सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने क लिए खाद्य सुरक्षा महत्वपूर्ण है| खाद्य सुरक्षा सरकार, निर्माता और उपभोक्ता के बीच एक साझा ज़िम्मेदारी है | दूषित खाद्य पदार्थ के कारण बीमारियाँ और मौत बढ़ती जा रही हैं, जिसकी वजह से हर व्यक्ति का इस विषय पर जागरूक होना अतिआवश्यक हो गया है। हमारा फ़र्ज़ बनता है की हम खुद अच्छा खाएं और दूसरों को भी अच्छा खिलाएं। इस इंडेक्स के माध्यम से खाद्य सुरक्षा के पाँच मानदंडों पर राज्यों का प्रदर्शन आँका जाएगा। इन श्रेणियों में निम्नलिखित मानदंड शामिल हैं-
मानव संसाधन और संस्थागत प्रबंधन
कार्यान्वयन, खाद्य जाँच-अवसंरचना और निगरानी
प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण
उपभोक्ता सशक्तीकरण
भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण ने विश्वविद्यालयों, स्कूलों, कॉलेजों, संस्थानों, कार्यस्थलों, रक्षा/अर्द्ध सैनिक प्रतिष्ठानों, अस्पतालों और जेलों जैसे 7 परिसरों को ‘ईट राइट कैंपस’ के रूप में घोषित किया है। भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण ने खाद्य कंपनियों और व्यक्तियों के योगदान को पहचान प्रदान करने के लिये ‘ईट राइट अवार्ड’ की स्थापना की है, ताकि नागरिकों को सुरक्षित और स्वास्थ्यकर खाद्य विकल्प चुनने में सशक्त बनाया जा सके।

The Hindu

रूस ने आर्कटिक के लिए प्रथम पर्यटक रेल सेवा लांच की

रूस ने हाल ही में आर्कटिक क्षेत्र के लिए प्रथम पर्यटक रेल सेवा लांच की है। इसके उद्घाटन दिवस के अवसर पर 91 लोगों ने इस रेल से सफर किया।  इस रेल का नाम जारेनगोल्ड रखा गया है। यह ट्रेन सैंट पीटर्सबर्ग से पेट्रोजावोद्स्क से होते हुए कम और मुर्मन्स्क तक जायेगी। मुर्मन्स्क आर्कटिक सर्किल के उत्तर का सबसे बड़ा नगर है। मुर्मन्स्क से पर्यटक बस द्वारा नॉर्वे क्र किर्केनेस के लिए जा सकते हैं। यह पूरी यात्रा 11 दिन में पूरी होगी। ग्लोबल वार्मिंग के कारण आर्कटिक क्षेत्र में ग्लेशियर पिघल रहे हैं, इसके देखते हुए रूस आर्कटिक क्षेत्र का आर्थिक व सैन्य लाभ उठाने का प्रयास कर रहा है।

The Hindu